विशिष्टाद्वैत विभाग

Head of Department Dean of the Faculty

डॉ एस. सुदर्शन
एसोसिएट प्रोफेसर, विशिष्टाद्वैत विभाग

विश्वा अद्वैत वेदांत की इस प्रणाली में तीन संस्थाएँ स्वीकार की जाती हैं, वे हैं सिटी (आत्मा), एसिट (प्रकृति) और ईश्वर (ईश्वर-ब्रह्म)। ब्राह्मण अपने गुण सिटी और एसिट के साथ योग्य है। तीनों इकाइयाँ वास्तविक हैं। ब्राह्मण को कई नामों से पुकारा जाता है जैसे आत्मान, परमात्मन, श्रीमन नारायण, श्रीपति आदि। ब्राह्मण ही सृष्टि का रचयिता, रक्षक और संहारक है। इन बातों का वर्णन श्रीश्या, वेदार्थसंग्रहों ग्रंथों आदि में अच्छी तरह से वर्णित है। इस व्यवस्था की शुरुआत स्वयं भगवान ने की थी। इस विषय में दक्षता हासिल करने के लिए महर्षि वेदव्यास, बोदायन, नतमुनी, यमुनामुनी, बगवद रामानुज, श्री वेदांत देसिका और अन्य जैसे महान दार्शनिकों ने इस प्रणाली की स्थापना के लिए विभिन्न ग्रंथों को लिखा, जो वर्तमान पीढ़ी को भी प्रेरित कर रहे हैं।
मानव समाज के लिए अच्छी संस्कृति के साथ सभी चार पुरुषार्थ (धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष) अच्छी तरह से स्थापित और बड़े करीने से प्रस्तुत किए जाते हैं। वेदों के अंतिम भाग को वेदांत कहा जाता है। इसे ज्ञानममसा भी कहा जाता है। इस दर्शन के प्रचारक अपने अनुयायियों से आग्रह करते हैं कि वे अर्थ पंचक का सबसे महत्वपूर्ण ज्ञान प्राप्त करें: -

प्राप्यस्य ब्रह्मणो रूपं प्राप्तुश्च प्रत्यगात्मनः ।

प्राप्त्युपायः फलं चैव तथा प्राप्तिविरोधि च ।।

इसका अर्थ है ब्रह्म का ज्ञान, जीवात्मा, प्राण, अंतिम परिणाम, अवरोध, ज्ञान की प्राप्ति। गैर सांसारिक तत्वों के ज्ञान को वेदों के बेदा, अबेदा और घाटका वाक्यों के अध्ययन के माध्यम से जाना जाता है। इस दर्शन के मूल ग्रंथ हैं सिद्धीत्रम, स्तोत्ररत्नम, श्रीबाश्याम, तत्त्वमुकल्प, सत्तुशानी इत्यादि .. और मौलिक ग्रंथ जैसे यतेन्द्रमृतदीपिका, वेदांतकादिकवली आदि ... इस प्रणाली का ज्ञान प्राप्त करने के इच्छुक छात्र निश्चित रूप से कई तहों में विकसित होंगे।

अध्ययन सामग्री / संदर्भ

faculty
क्रमांकशीर्षकडाउनलोड
1परीक्षण फ़ाइलडाउनलोड (80.83 KB) pdf

संकाय विवरण

faculty
क्रमांक फ़ोटो नाम विभाग पद
1 एस. सुदर्शन डॉ एस. सुदर्शन विशिष्टाद्वैत विभाग एसोसिएट प्रोफेसर