मीमांसा विभाग

‘पूजितविचारवचनो मीमांसाशब्दः’ मीमांसा शब्द का अर्थ पूजित विचार होता है। ‘‘कर्मेति मीमांसकाः’’ इस वचन के अनुसार मीमांसा में कर्म को ही ईश्वर माना गया है। मीमांसा का प्रथम ग्रन्थ ‘जैमिनि-सूत्र’ है इसे द्वादशलक्षणी नाम से भी जाना जाता है। इस दर्शन में द्वादश अध्याय हैं। इस मीमांसा दर्शन के प्रर्वतक महर्षि जैमिनि हैं। धर्म का क्या लक्षण है एवं धर्म में क्या प्रमाण है? यही समझाने के लिये इस ग्रन्थ की रचना हुर्ह है। इसलिये इस दर्शन का प्रथम सूत्र- ‘अथातो धर्मजिज्ञासा’ (जै-सू-1/1/1) है। इस शास्त्र में अनेक अधिकरण हैं, जिनके आधार पर धर्म या मानव-कर्तव्य याग आदि का विचार होता है। अधिकरण में पॉच अवयव या भाग होते- विषय, संशय, पूर्वपक्ष, सिद्धान्त एवं संगति। उपर्युक्त विषयों में यह विभाग दक्षता प्रदान करता है।

अध्ययन सामग्री / संदर्भ

faculty
क्रमांकशीर्षकडाउनलोड
1परीक्षण फ़ाइलडाउनलोड (80.83 KB) pdf

संकाय विवरण

faculty
क्रमांक फ़ोटो नाम विभाग पद
1 ए. एस. अरावमुदन प्रो. ए. एस. अरावमुदन मीमांसा विभाग प्रोफेसर
2 राजेश कुमार गुर्जर डॉ राजेश कुमार गुर्जर मीमांसा विभाग असिस्टेंट प्रोफेसर