• शनिवार, जुलाई 20, 2019
:: उच्चतर शिक्षा विभाग, मानव संसाधन विकास मंत्रालय द्वारा शिक्षक और शिक्षण पर पंडित मदन मोहन मालवीय राष्ट्रीय मिशन की योजना के अंतर्गत शिक्षक शिक्षण केन्द्र के लिए विद्यापीठ के शिक्षाशास्त्र विभाग को स्वीकृति प्रदान की है |
खोज
खोज :
स्टाफ लोग इन
 
सूची
 
  विद्यापीठ
शैक्षणिक
सुविधाएँ
ई-संसाधन
ई-शिक्षण
दृश्यावली
पूर्व स्नातक
परीक्षा परिणाम
विद्यापीठ समाचार पत्रिका

 
नवीन सूचनाएँ
कैंटीन अनुबंध   
डाउनलोड: अधिसूचना
दर्शन संकाय के अंतर्गत विभागीय शोध समीक्षा समिति की बैठक   
डाउनलोड: अधिसूचना
विद्वत्परिषद् परिषद की बैठक के संबंध में अधिसूचना   
डाउनलोड: कार्यालय आदेश
Advt no. 03/2018 में प्रकाशित कुक के पद के लिए स्कील टेस्ट के संबंध में अधिसूचना।   
डाउनलोड: अधिसूचना
2019-20 के लिए बी.ए. (योग) और एम.ए. (योग) पाठ्यक्रमों में प्रवेश की अगली तिथि के संबंध में अधिसूचना   
डाउनलोड: सूचना
Advt no. 03/2018 में प्रकाशित कनिष्ट लिपिक के पद के लिए स्कील टेस्ट के संबंध में अधिसूचना।   
डाउनलोड: अधिसूचना
2019-20 के दौरान पुस्तकालय समितियों के गठन के संबंध में कार्यालय आदेश   
डाउनलोड: कार्यालय आदेश
शिक्षाशास्त्री तथा शिक्षाचार्य पाठ्यक्रम प्रवेश -2019 की काउंसलिंग के संबंध में अधिसूचना   
डाउनलोड: अधिसूचना
विद्यावारिधि पाठ्यक्रम प्रवेश 2019 के संबंध में काउंसलिंग सूचना   
डाउनलोड: सूचना
Advt. no. 03/2018 में प्रकाशित कनिष्ट लिपिक और कुक के पद के संबंध में अधिसूचना   
डाउनलोड: अधिसूचना
 
 
 
महामहोपाधयाय डा- मण्डन मिश्र
 
 
 
 
 
सम्मान एवं पुरस्कार
 
 

सामान्यवर्ग से लेकर देश के महान् नेताओं और विद्वानों द्वारा डा. मिश्र को सम्मान प्राप्त हुए। दिल्ली साहित्य कला परिषद् ने सन् 1971 ई. में इनकी संस्कृत सेवाओं के लिए इन्हें सम्मानित किया। भारत सरकार ने सन् 1983 में उनको राष्ट्रपति सम्मान प्रमाण-पत्र से पुरस्कृत किया जो आजीवन 50 हजार रूपये के वार्षिक मानदेय के साथ चलता रहेगा। उत्तरप्रदेश संस्कृत अकादमी ने इनके ग्रन्थ पर 10 हजार रूपये का अखिल भारतीय शंकराचार्य पुरस्कार श्री राजीव गांधी के करकमलों से दिलाया। इनके मीमांसा दर्शन तथा संस्कृत सेवाओं से संबद्ध संपूर्ण व्यक्तित्व और कृतित्व के आधार पर सन् 1989 ई. में संसार का सर्वोत्कृष्ट एक लाख रूपये का विश्व संस्कृत भारत भारती पुरस्कार राष्ट्रपति डा. शंकर दयाल शर्मा ने प्रदान किया। श्रृंगेरी के वर्तमान शंकराचार्य श्री भारती तीर्थ स्वामी जी ने अभिनव विद्यातीर्थ महाराज ने उनको सन् 1966 में विद्या भारती की उपाधि से सम्मानित किया। उत्तर भारत के प्रथम विद्वान के रूप में राष्ट्रपति डा. शंकरदयाल जी के कर कमलों से स्वर्गीय राजीव गांधी की उपस्थिति में 1990 ई. में आपको पुरस्कृत करवाया। जगदगुरू रामानन्दाचार्य ने डा. मिश्र को ब्रहर्षि की उपाधि प्रदान की। दिल्ली संस्कृत अकादमी ने डा. मिश्र को 15 हजार रूपये के संस्कृत सेवा सम्मान से विभूषित किया। डा. मुरली मनोहर जोशी (पूर्व अध्यक्ष भारतीय जनता पार्टी) द्वारा अपनी माता चन्द्रावती जोशी की स्मृति में संस्थापित दस हजार रूपये का प्रथम संस्कृत सेवा पुरस्कार डा. मिश्र को दिया गया।


डा. मिश्र विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा नियुक्त संस्कृत, प्राकृत और पाली शास्त्रीय भाषाओं के पैनल के संयोजक (अध्यक्ष) रहे, जो देश के विश्वविद्यालयों में भारतीय भाषाओं में शोध तथा अध्ययन के विकास के क्षेत्र में आयोग को परामर्श देता है। वर्तमान में भी डा. मिश्र विश्वविद्यालय अनुदान आयोग की विभिन्न समितियों के संचालक तथा सदस्य हैं

 
 
 
 
  2006 सर्वाधिकार सुरक्षित संस्कृत विद्यापीठ , नई दिल्ली , सम्मति  :वेबमास्टर डिस्क्लेमर         अच्छा प्रदर्शन : 800X600
कम्प्यूटर केन्द्र द्वारा अनुरक्षित-एस एल बी एस आर एस वी , नई दिल्ली, ११००१६