• Thursday,  March 30, 2017
:: 16th Convocation was held on 9th January 2017 and Honble State Minister Dr Mahendra Nath Pandey has delivered the convocation address.
Search
Search:
Staff Login
 
Menu
 
  The Vidyapeetha
Academics      
Facilities      
Proctor       
E-Resources       
E-Tutorials       
Photo Gallery       
  Alumni Registration
  Examination Result
  Vidyapeetha News Letter

 
Announcement
Notice regarding Sport Committee   
Download : Notice
Notice regarding meeting of Research Review Committee   
Download : Notice
Notice regarding National Seminar of Faculty of Ved Vedang   
Download : Notice
Office order regarding meeting of Proctorial Board   
Download : Notice
Notice regarding examination of short term self financing courses   
Download : Notice
Notice regarding Workshop of Vyakaran Department
Download : Notice
Notification regarding submition of Examination Form
Download : Notification
Applicability of General Financial Rules to autonomous bodies
Download : Notice
Notice regarding short term practical training programme of Surya-Siddhant
Download : Notice
Important notice regarding scholarship
Download : Notice
Notice regarding 7th meeting of Academic Council
Download : Notice
Final list of Participants for Workshop of rashtriy Pandulipivigyan
Download : Notice
Memorandum of World Food Day Celebration Committee
Download : Memorandum
Office order regarding meeting of Research review committee of faculty of Sahitya and Sanskriti
Download : Notice
Orders relating to National Anthem of India
Download : Order
 
 
 
Vidyapeetha-Kulgeetika

 

यह संस्कृत विद्यापीठ श्रद्धेय श्रीलालबहादुरशास्त्राी जी के द्वारा सरंक्षित है। विद्यापीठ द्वारा अपनी शैशवावस्था में अखिल भारतीय संस्कृत साहित्य सम्मेलन के सहयोग से विविध महत्त्वपूर्ण कार्यक्रम आयोजित किये गये। इस संस्था ने संस्कृत विद्वत्सम्मेलनों एवं विभिन्न समितियों का संयोजन संस्कृत-ग्रन्थों के सम्पादन और मुद्रण की व्यवस्था तथा संस्कृत-भाषण-प्रतिस्पर्धा एवं कवि-गोष्ठियों के आयोजनों से लोक में पर्याप्त ख्याति अर्जित की है।

 

भारत के प्रथम राष्ट्रपति डॉ. राजेन्द्र प्रसाद, मूर्धन्य राजनेता श्री नरहरि विष्णु गाडगिल एवं श्रीबलवन्त नागेश दातार ने विद्यापीठ के प्रवर्तन का पथ प्रशस्त किया। दिल्ली के तत्कालीन उप-राज्यपाल डॉ. आदित्यनाथ झा आदि अधिकारियों ने इस विद्यापीठ को सरकारी अनुदान द्वारा समृद्ध किया। पण्डित-मण्डली से मण्डित डॉ. मण्डन मिश्र आदि विद्वज्जनों के समूह द्वारा इस विद्यापीठ का शैक्षणिक स्तर उन्नत किया गया।

 

श्रीमती इन्दिरा गाँधी जी तथा विभिन्न केन्द्रीय मंत्रियों ने इस विद्यापीठ का सम्पोषण किया। भारत सरकार द्वारा शास्त्री जी के स्मारक रूप में इसके अधिग्रहण करने की घोषणा कर विद्यापीठ का विकास किया। विभिन्न राजनेताओं ने इस विद्यापीठ के कार्यों का यशोगान करके इसे लोक में विशष रूप से प्रतिष्ठित किया।

 

यह विद्यापीठ सभी छात्रों के शिक्षण और संस्कृत शिक्षकों के प्रशिक्षण में सजग है। विद्यापीठ ने अपने मार्ग में आने वाले सैकड़ों विघ्न-बाधाओं का निवारण साहस के साथ किया है। हमें हर्ष है कि इसने शैशवकाल में ही विश्व के कोने-कोने में अपनी कीर्ति पताका फहराई है। ऐसा यह विद्यापीठ श्री लाल बहादुर शास्त्री जी द्वारा संभव हुआ है।

 
 
  
 
 
 
          
  2006 SLBSRSV,New Delhi, All Rights Reserved FeedbackWebmaster Disclaimer         Best View : 800X600
Maintained by Computer Centre-SLBSRSV, New Delhi-16